Rajasthan Election Final Result 2018: सीएम होंगे अशोक गहलोत और सचिन पायलट को डिप्‍टी सीएम का ऑफर, जल्‍द ऐलान

हाइलाइट्स
  • वहीं सूत्रों के अनुसार कहना है कि अशोक गहलोत ने भी अपनी दावेदारी को बताते हुए राहुल के सामने अपना पक्ष रखा है और इस दौरान गहलोत का कहना है कि कांग्रेस की सत्ता में आने की वजह उनके पिछले मुख्यमंत्री के किए गए काम हैं. 2013 में नरेंदर मोदी की लहर में हारे बावजूद इसके जनता में उनकी मुफ्त में मिलने वाली दवा से लेकर और कई स्कीम बहुत लोकप्रिय हैं अशोक गहलोत ने दो तिहाई से ज्‍यादा विधायकों और पार्टी नेताओं के समर्थन में दावा किया है की वे राजस्थान से बाहर पूरी जिम्मेदारी के बावजूद पांच साल तक राजस्थान में सक्रिय रह रहे है पार्टी ने जब भी काम काम किया है वह पूरी ईमानदारी के साथ काम किया है कभी भी किसी पद के लिए नहीं अड़े और न ही लॉबिंग की है
  • वही सूत्रों के अनुसार सचिन पायलट ने सीएम बनाने के लिए कई और तर्क भी दिए है उन्‍होंने कहा है कि अशोक गहलोत के सीएम रहते रहते कांग्रेस ने और दो चुनाव लडे है 2003 में 56 और 2013 में 21 पर आ गई थी फिर भी अशोक गहलोत बहुत लोकप्रिय कैसे है? सचिन पायलेट ने आगे कहा है कि पांच साल पहले पार्टी की हार के बाद उन्हें सारी कमान सोप दी थी. तभी पार्टी की हालत बहुत नाजुक थी उन्हें पांच साल से राजस्थान में बहुत मेहनत कर पार्टी को एकजुट कर अपनी पूरी जान लगा दी थी. उन्‍होंने सडक पर बहुत संघर्ष किया था ऐसे में उनकी अगुवाई में पार्टी ने अधिकतर उप चुनाव भी जीते है उनकी करि गई मेहनत से ही कांग्रेस आज सत्ता में फिर आई है बल्कि फिर से उन्हें सीएम क्यों नहीं बनाया जा सकता है
  • अलवर जिले में सचिन पायलट को सीएम नही बनाया जायेगा और इसके कारन गुर्जर समाज पूरा सड़क पर उतर गया है गुर्जर समाज के लोगो ने अलवर में सरिस्का थानागाजी जयपुर मार्ग नटनी का बारा में बहुत भयंकर जाम लगा दिया. इससे सड़क के दोनों तरफ ओर वाहनों की लाइन लग गई है. नटनी का बारा में चौराहे पर गुर्जर समाज के युवाओं ने सड़क पर जाम लगाकर सचिन पायलट को सीएम घोषित करने की मांग की है.
  • पीसीसी के बाहर और उसके आस-पास लगभग 300 पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे। कार्यालय के दोनों किनारों पर बेरीकेडिंग किया गया है। इस क्षेत्र में वाहनों और समर्थकों के लिए नो एंट्री रहेगी ।
  • मुख्यमंत्री कौन बनेगा? आज दिल्ली में फैसला किया जाएगा। उसी समय जयपुर पीसीसी पर गेहलोत-पायलट समर्थकों के समर्थन की संभावना है। इसके संदर्भ में पुलिस अधिकारियों को पीसीसी के बाहर तैनात किया गया है।

Daily News Online
Updated: December 14, 2018, 05:33 PM IST

कई दिनों के इंतजार के बाद अ‍ाखिरकार राजस्थान पर अपने मुख्यमंत्री से मिलने जा रहे हैं। अशोक गेहलोत ने राजस्थान का नया मुख्यमंत्री बनाने का फैसला किया है। सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री पद की पेशकश की गई है। इसकी आधिकारिक घोषणा शाम को लगभग 4:30 बजे होगी। गहलोत ने रेस में चल रहे सचिन पायलट को पछाड़कर सीएम पद पर कब्‍जा भी जमाया है। यह उल्लेखनीय है कि राजस्थान विधानसभा चुनावों में जीत की झुकाव के बावजूद कांग्रेस परेशानी में थी। पिछले तीन दिनों और दर्जनों बैठकों के बाद भी राजस्थान के मुख्यमंत्री का नाम तय नहीं किया जा सका। सचिन पायलट और अशोक गेहलोत दोनों मुख्यमंत्री पद के लिए दावे पेश कर रहे थे। ऐसे मामले में कांग्रेस हाई कमांड देर रात के बाद भी गुरुवार को कोई फैसला नहीं ले सकी। हालांकि शुक्रवार की शाम को 4:30 बजे मुख्यमंत्री का नाम घोषित किया जाएगा।
अशोकगहलोतकोराजस्‍थान
अशोक गहलोत को राजस्‍थान का नया सीएम
यह उल्लेखनीय है कि बुधवार को विधायी दल की बैठक में प्रस्ताव पारित किया गया था कि मुख्यमंत्री के नाम पर निर्णय राहुल गांधी ने किया था। बैठक के बाद एक विधायक को गेहलोत और सचिन के बारे में फीडबैक दिया गया जिनकी रिपोर्ट राज्य पर्यवेक्षक के.सी. वेणुगोपाल ने राहुल गांधी को सौंपी थी।
यह भी पढ़ें:-मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 परिणाम
बुधवार को राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक गेहलोत, सचिन पायलट, केसी वेणुगोपाल और अविनाश पांडे ने राज्यपाल से मुलाकात की और सरकार बनाने का दावा प्रस्तुत किया जबकि मुख्यमंत्री का नाम तय नहीं किया जा सका। इसके लिए कांग्रेस विधायकों की बैठक बुधवार की सुबह 11 बजे से हुई है। बैठक में सर्वसम्मति से पारित किया गया था कि राहुल गांधी मुख्यमंत्री का नाम तय करेंगे। विधानसभा की दूसरी बैठक शाम को आयोजित की गई है लेकिन यह आम सहमति भी नहीं बन पाई थी।
यह भी पढ़ें:-ईशा अंबानी की प्री-वेडिंग सेरेमनी में सितारों का मेला, देखें तस्वीरें
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ‘शक्ति’ ऐप के माध्यम से विधायकों से प्रतिक्रिया भी ली। कांग्रेस में जबरदस्त उत्साह की लहर है, जो विधानसभा चुनाव के परिणामों के बाद सत्ता में लौट रही है। कांग्रेस की जीत के बाद, पार्टी के पर्यवेक्षक, के.सी. वेणुगोपाल, चुनाव परिणामों के बाद आगे की रणनीति तय करने के लिए जयपुर आए और कहा कि तीन मुख्य राज्यों में बीजेपी और कांग्रेस के बीच सीधी लड़ाई थी। देश का मूड बदल गया है। अब यह कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी के पक्ष में आया है।
Read More:-Hillary Clinton does bhangra with John Kerry at Isha Ambani sangeet

Click News Daily

we at Click News Daily, provide lates & updated news just a click away, our news portal also covers bollywood sports & latest jokes. so be updated with clicknewsdaily.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *